गर्भावस्था और कोरोना वायरस – कोविड -19

कोरोना महामारी के चलते लॉकडाउन में कई जोड़ों ने गर्भधारण करने के प्लानिंग की और उनके बच्चे भी हुए। क्योंकि ज्यादातर लोग घरों में ही थे तो गर्भवती होना काफी सहज लगा।

चूंकि आजकल कोरोना वायरस का एक दूसरा दौर चल रहा है जो काफी अधिक संक्रामक है, तो यह गर्भवती महिलाओं में भी कई आशंकाएं पैदा करता है।

यदि गर्भवती महिलाओं में कोविद -19 संक्रमण हो जाता है, तो उन्हें अधिक गहन देखभाल की आवश्यकता होती है।

अन्य लोगों की तुलना में उनमें बीमारी के अधिक गंभीर लक्षण आने की संभावना होती है। खास तौर पर वह महिलाएं जो अधिक उम्र की हैं, अधिक वजन वाली हैं या उच्च रक्तचाप या शुगर जैसी बीमारी से ग्रसित हैं। परंतु आपको घबराने की जरूरत नहीं है। आपको केवल अधिक सावधानी बरतनी है।

गर्भावस्था शरीर की प्रतिरोधक क्षमता में बदलाव लाती है। इसलिए, यदि आप गर्भवती है तो खांसी, बुखार या सांस लेने में समस्या होने पर तुरंत अपने चिकित्सक को सूचित करें। जहां हम आमतौर पर पूछे जाने वाले प्रश्न से उत्तर दे रहे हैं, इन्हें ध्यान से पढ़िए।

 

क्या गर्भवती महिलाओं को वैक्सीन लेनी चाहिए?

अध्ययनों ने पुष्टि की है कि कोरोना की वैक्सीन मां या भ्रूण के स्वास्थ्य के लिए कोई खतरा नहीं है। जिन भी गर्भवती महिलाओं ने टीकाकरण करवाया है, कथित तौर पर उनमें एंटीबॉडी की अच्छी संख्या पाई गई है जो संक्रमण से रक्षा करने में पूर्णतः सक्षम है। अगर आप गर्भवती हैं तो वैक्सीन लगवाना आपके लिए सुरक्षित है।

गर्भवती महिलाएं कोरोना से खुद को कैसे बचा सकती हैं?

गर्भवती महिलाओं के लिए कोविड -19 के खिलाफ सुरक्षा का प्रोटोकॉल अन्य व्यक्तियों के समान ही है।

  • अपने हाथों को बार-बार साबुन और पानी से 20 सेकंड तक धोएं।
  • अन्य लोगों से कम से कम 2 मीटर की शारीरिक दूरी बनाकर रखें।
  • भीड़-भाड़ वाली जगहों से बचें। जितना हो सके घर पर ही रहें
  • जब दूरी संभव न हो, तो कपड़े से बने नॉन-मेडिकल मास्क पहनें
  • इम्यून सिस्टम को मजबूत रखने के लिए पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थों का सेवन करें
  • आंखों, नाक और मुंह को छूने से बचें।
  • टहलने के लिए जाते समय मास्क पहने और उन लोगों से 2 मीटर की दूरी पर रहें जो आपके साथ नहीं रहते|
  • श्वसन स्वच्छता का पालन करें- छींकने और खांसने के लिए हाथों की बजाय मुड़ी हुई कोहनी का उपयोग करें। एक पेपर नैपकिन के साथ मुंह को कवर करें और उसे तुरंत बंद कूड़ेदान में फेंक दें।
  • अगर बुखार, खांसी और सांस लेने में कठिनाई के संकेतों हों तो तुरंत मेडिकल सुरक्षा प्राप्त करें।
  • हर प्रकार की यात्रा से बचें।

गर्भवती महिलाओं को नियमित रूप से स्त्री रोग विशेषज्ञ के संपर्क में रहना चाहिए।

 

क्या कोविड -19 वायरस गर्भवती महिला से उसके बच्चे में जा सकता है?

नहीं, अभी तक ऐसे कोई निर्णायक सबूत नहीं मिले कि वायरस माता से गर्भ में पलते या प्रसव के समय शिशु को जा सकता है। शोधकर्ताओं ने गर्भाशय के पानी और दूध दोनों का सक्रिय कोरोनावायरस के लिए परीक्षण किया। परंतु नतीजे नकारात्मक पाए गए हैं।

 

क्या आप प्रसव के बाद अस्पताल में रहने के बारे में चिंतित हैं?

सभी अस्पताल कर्मी और स्त्री रोग विशेषज्ञ यह सुनिश्चित करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं कि आपको संक्रमण का कोई खतरा न हो।

न्यूनतम लोगों को अस्पताल में प्रवेश की अनुमति है। ईएवा अस्पताल लुधियाना में, हम यह सुनिश्चित करते हैं कि वार्ड को हर समय साफ सैनिटाइज रखा जाए और कर्मचारियों को टीका लगाया जाए। सभी क नियमित रूप से परीक्षण किया जाता है और प्रसूति वार्ड में पीपीई PPE किट पहनी जाती है। आपका स्वास्थ्य हमारी प्राथमिकता है।

कोरोना वायरस ने से बचने के लिए सभी सावधानियां बरती जा रही हैं। यदि आप चाहें, तो आप प्रसव

के बाद जल्दी से घर जा सकते हैं अगर आप ठीक महसूस करते हैं और प्रसव भी सामान था।

 

क्या कोरोना संक्रमित मां बच्चे को दूध पिला सकती है?

डब्ल्यूएचओ की सिफारिश के अनुसार महिलाओं को अपने बच्चों को स्तनपान कराना जारी रखना चाहे, भले ही वे कोरोना पॉजिटिव हों। ऐसा इसलिए है क्योंकि स्तनपान के लाभ कोविद संक्रमण के जोखिम से बहुत अधिक हैं।

साथ ही, स्तन के दूध के माध्यम से वायरस बच्चे को संक्रमित नहीं करता है। फिर भी, माँ को ऊपर बताए अनुसार श्वसन स्वच्छता का पालन करना चाहिए। बच्चे को छूने से पहले और बाद में उसे अपने हाथ धोने चाहिए। साथ ही, जब भी वह अपने बच्चे के संपर्क में होती है, तो मां को एक मेडिकल मास्क पहनना आवश्यक होता है। निकट संपर्क और स्तनपान दोनों बच्चे के स्वास्थ्य और प्रतिरक्षा के लिए अत्यंत सहायक हैं।

 

क्या गर्भवती महिलाओं के लिए कोरोना परीक्षण आवश्यक है?

विभिन्न राज्यों में गर्भवती महिलाओं के लिए परीक्षण प्रोटोकॉल भिन्न हो सकते हैं। अधिकांश स्थानों पर, गर्भावस्था के दौरान यह परीक्षण करना उनके लिए अनिवार्य नहीं है जब तक कि उन्हें बुखार या खांसी आदि के लक्षण न हों, लेकिन प्रसव से ठीक पहले, कोविद -19 परीक्षण एहतियाती के तहत किया जाता है।

डब्ल्यूएचओ की सिफारिश है कि यदि गर्भवती महिला कोरोना के लक्षणों की रिपोर्ट करती है, तो उसके परीक्षण को सर्वोच्च प्राथमिकता दी जानी चाहिए।

 

कोरोना महामारी में गर्भधारण की प्लानिंग

गर्भावस्था और प्रसव समाज की प्राकृतिक प्रक्रिया हैं और उन्हें दरकिनार नहीं किया जाना चाहिए। डॉक्टर यह सलाह देते हैं कि बच्चे की इच्छा रखने वाले दंपत्ति पहले कोरोना की वैक्सीन के डोज प्राप्त करें और फिर योजनास्वरूप गर्भ धारण कर सकते हैं।

अगर कोई महिला पहले टीके के बाद गर्भवती हो जाती है, तो वह सामान्य रूप से दूसरा टीका भी लगवा लगवा सकती है, इसमें कोई प्रॉब्लम नहीं है (अगर गर्भ सामान्य है तो)।